कहीं घरों में दाल नही है, रोटी के भी लाले है। Hindi Poetry By Kumar Harish


कहीं  घरों   में  दाल  नही   है, रोटी के भी लाले  है। Hindi Poetry By Kumar Harish


कहीं  घरों   में  दाल  नही   हैरोटी के भी लाले  है।

कहीं महफिलें जमी हुयी हैंसबके  हाथ में प्याले हैं।।

 

कहीं  दुपहरी  भर  खेतो  में  नंगे  बदन   झुलसते   हैं।

कहीं   महल  के   गालीचों  से   भी   पावों  में  छाले  है।।

 

कहीं मय्यसर नहीं रौशनीदीपक  तक भी गिरवी हैं।

कहीं  देखिये घर तो क्या हैछत पर भी उजियाले हैं।।

 

कहीं  झोपडी पर  भी  कब्ज़ा  सामन्तों  का  रहता है।

कहीं  घरों   की  रखवाली  को   दो  दो  कुत्ते  पाले  हैं।।

 

कहीं  लिए  तहज़ीब  का झंडा जो दिन भर गुर्राते हैं।

कहीं  कहीं  पर  वही  रात  में  कोठों  के   रखवाले हैं।।

 

-        - द पोएट्री लव

 

Kahin  Gharon   Mein  Daal  Nahi   Hai, 

Roti Ke Bhi Laale  Hai.

Kahin Mahaphilen Jami Huyi Hain, 

Sabake  Haath Mein Pyaale Hain..


Kahin  Dupahari  Bhar  Kheto  Mein  

Nange  Badan   Jhulasate   Hain.

Kahin   Mahal  Ke Gaalichon Se Bhi   

Paavon  Mein  Chhaale  Hai..

 

Kahin Mayyasar Nahin Raushani, 

Deepak  Tak Bhi Giravi Hain.

Kahin  Dekhiye Ghar To Kya Hai, 

Chhat Par Bhi Ujiyaale Hain..

 

Kahin  Jhopadi Par  Bhi  Kabza  

Saamanton  Ka  Rahata Hai.

Kahin  Gharon   Ki  Rakhavaali  Ko   

Do  Do  Kutte  Paale  Hain..

 

Kahin  Liye  Tahazib  Ka Jhanda 

Jo Din Bhar Gurraate Hain.

Kahin Kahin Par Vahi Raat Mein

Kothon Ke Rakhavaale Hain..

-      The Poetry Love 


Post a Comment

0 Comments