Din Bhi Mere Raat Se Tanha Hai I दिन भी मेरे रात से तन्हा है


दिन
भी मेरे रात से तन्हा है


दिन भी मेरे रात से तन्हा है

उसमे भी तेरा साथ कहां है

 

सुनाई देती है तेरी आवाज लेकिन

दिल के अब वो हालात कहां है

 

देखता हूँ हर रोज कितने ही चेहरे

जो बात थी तुझमे अब वो बात कहाँ है

 

बेसब्र हें आज भी महफ़िल सजाने को

हमारी वो पिछली मुलाकत कहाँ है

 

गुमशुदा हे मेरे वो दिन सुकून के

जिस पर चेन से सोता था वो हाथ कहाँ है

 

जिन्दगी की दौड़ में बहुत ही भागा हूं

जब पहली बार चला था वो शुरुवात कहां है

 

फर्क इतना है कि जीवन में सन्नाटे नही

ख़ामोशी की भी अब इतनी औकात कहाँ हे

 

दिन भी मेरे रात से तन्हा है

उसमे भी तेरा साथ कहां है

 

-        कुमार हरीश

 

Din Bhi Mere Raat Se Tanhaa Hai

 

Din bhi mere raat se tanhaa hai

Usme bhi tera sath kahan hai

 

Sunai deti he teri aawaaj lekin

Dil ke ab wo halaat kahan hai

 

Dekhta Hoon har roj kitne hi chehare

Jo baat thi tujhme ab wo baat kahan hai

 

Be-sabra he aaj bhi mahfeel sajaane ko

Hamari wo pichhali mulaqaat kahan hai

 

Gumshuda he wo mere Din Sukoon ke

Jis par chain se sota tha wo haath kahan hai

 

Jindagi ki dor me bahut hi bhaaga hoon

Jab pahali baar chala tha wo Shuruwat kahan hai

 

Fark Itna he ki Jeevan me Sannate nahi

Khamoshi ki bhi ab itni Aukaat kahan hai

 

Din bhi mere raat se tanhaa hai

Usme bhi tera sath kahan hai

 

-Kumar Harish

Post a Comment

0 Comments